फास्टैग (Fastag) का फुल फॉर्म

भारत में यातायात का टैक्स टोल प्लाजाओं के द्वारा वसूला जाता है, टोल प्लाजाओं में टोल कलेक्शन सिस्टम धीमा होने से अधिक जाम लग जाता है | जिससे लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है | इन परेशानियों के निस्तारण के लिए राष्ट्रीय हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया के द्वारा भारत में इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन (ETC) सिस्टम को प्रारम्भ किया जा रहा है | भारत में सबसे पहले इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन सिस्टम या फास्टैग स्कीम को वर्ष 2014 में लागू किया गया था | फास्टैग सिस्टम की सहायता से आपको टोल प्लाजा पर टोल टैक्स देने के समय होने वाली समस्याओं से मुक्ति मिल सकती है | इस पेज पर फास्टैग (Fastag) का फुल फॉर्म, फास्टैग का क्या मतलब होता है, के विषय में बताया जा रहा है |

ये भी पढ़ें: ITI KA FULL FORM IN HINDI

फास्टैग का फुल फॉर्म (Fastag Full Form)

फास्टैग (Fastag) एक तकनीक है, इसे फास्टैग इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन (ETC) कहा जाता है | इस तकनीक में रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन उपयोग किया जाता है | इसमें एक टैग प्रदान किया जता है, जिसमे बार कोड से सूचनाओं को सुरक्षित किया जाता है | इस बार कोड के टैग को ही वाहन के विंडस्क्रीन पर लगाया जाता है | टोल प्लाजा पर आपकी गाड़ी जैसे ही आती है, उस समय टोल प्लाजा पर लगा सेंसर आपके वाहन के विंडस्क्रीन पर लगे फास्टैग को स्कैन करता है | स्कैन करने के बाद आपके फास्टटैग अकाउंट से उस टोल प्लाजा पर लगने वाला शुल्क स्वतः ही कट जाता है | इस प्रकार से आपको टोल प्लाजा पर रुकने की आवश्यकता नहीं होती है | इस तकनीक के द्वारा आप टोल प्लाजा पर रुके बगैर शुल्क का भुगतान कर सकते है | वाहन के विंडस्क्रीन पर लगाया गया टैग तभी कार्य करेगा जब आपके टैग के खाते में धनराशि होगी | जब यह धनराशि समाप्त हो जाती है तो आपको पुनः रिचार्ज करना होता है |

ये भी पढ़ें: ERP KA FULL FORM IN HINDI

फास्टैग का क्या मतलब होता है (Meaning)?

फास्टैग भारतीय राजमार्ग प्रबंधन कंपनी लिमिटेड (आईएचएमसीएल) का एक ब्रांड है | इसका उपयोग एनएचएआई की इलक्ट्रॉनिक टोलिंग और अन्य सहायक परियोजनाओं को पूर्ण करने के लिए किया जाता है | इसमें एक रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन डिवाइस टैग का उपयोग होता है | इसको वाहनों की विंडस्क्रीन पर चिपकाया जाता है, जिससे इसके कोड को आसानी से कैप्चर किया जा सके | इसकी सहायता से ऑटोमेटिक पेमेंट होता है | इस टैग को किसी भी बैंक के माध्यम से ख़रीदा जा सकता है | टैग के उपयोग से नगद लेन- देन की आवश्यकता नहीं होती है |

ये भी पढ़ें: LAN FULL FORM IN HINDI

फास्टैग कहाँ से लिया जा सकता है?

फास्टैग की सुविधा ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों प्रकार से उपलब्ध कराई गयी है | आप किसी भी सार्वजानिक या प्राइवेट बैंक के द्वारा आप इसके लिए आवेदन कर सकते है | आप कई और सर्विस प्रदाताओं के द्वारा इसे आप ऑनलाइन माँगा भी सकते है | इसको प्राप्त करने के लिए आपको बैंक की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा | वहां पर आपको फास्टैग का विकल्प प्राप्त होगा | आप इसकी सहायता से आवेदन कर सकते है |

ये भी पढ़ें: TDS FULL FORM IN HINDI

फास्टैग कैसे काम करता है ?

भारत सरकार के द्वारा टोल के सिस्टम में परिवर्तन करते हुए नेशनल हाइवेज अथॉरिटी (NHAI) के साथ सूचना का आदान- प्रदान करने के लिए कई राज्यों में केंद्रीय प्रभारी अधिकारियों की नियुक्ति की गयी है | इसका नियंत्रण NHAI के द्वारा किया जा रहा है | वर्तमान समय में अधिकतर कमर्शियल वाहनों के द्वारा फास्टैग का उपयोग किया जा रहा है | अभी तक निजी कार वाहनों के द्वारा इसे पूरी तरह से नहीं अपनाया गया है | भविष्य में फास्टैग को मोबाइल की तरह रिचार्ज किया जा सकेगा |

ये भी पढ़ें: HR FULL FORM IN HINDI

फास्टैग ऑनलाइन आवेदन (Fastag Online Apply)

  • फास्टैग ऑनलाइन आवेदन करने के लिए आपको बैंक की ऑनलाइन FASTag एप्लिकेशन वेबसाइट पर जाना होगा | इसके द्वारा फास्टैग प्रीपेड खाता खोला जा सकता है | प्रीपेड खाता खोलने के लिए आपका खाता बैंक में होना आवश्यक नहीं है |
  • आप जैसे ही FASTag के एप्लिकेशन पर जायेंगे वहां पर आपको नाम, पता, जन्मतिथि, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी की जानकारी देनी होगी |
  • इसके बाद आपको केवाईसी दस्तावेजों के विवरण को भरना होगा आप इसके लिए ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, पासपोर्ट, मतदाता पहचान पत्र, या आधार कार्ड का विवरण भर सकते है |
  • अब आपको वाहन पंजीकरण विवरण को भरना होगा | इस विवरण में अपको रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (RC) के नंबर को भरना होगा |
  • अब अपको सभी आवश्यक दस्तावेजों की स्कैन कॉपी को अपलोड करना होगा | इन स्कैन कॉपी में केवाईसी दस्तावेज, वाहन मालिक की एक पासपोर्ट साइज फोटो और आरसी को अपलोड करना होगा |
  • अब आपको अपने आवेदन को फ़ाइनल सबमिट करना होगा | सबमिट के बाद आपका फास्टैग एकाउंट जनरेट हो जायेगा | आप अपने एकाउंट को ऑनलाइन या FASTag ऐप के माध्यम से एक्सेस कर सकते हैं | आप क्रेडिट कार्ड/डेबिट कार्ड/ एनईएफटी / आरटीजीएस या नेट बैंकिंग के माध्यम से अपने एकाउंट को रिचार्ज कर सकते है | आप एक लाख की धन राशि तक रिचार्ज कर सकते है |

ये भी पढ़ें: GST KA FULL FORM IN HINDI

ये भी पढ़ें: CJI KA FULL FORM IN HINDI

ये भी पढ़ें: RPF FULL FORM IN HINDI

ये भी पढ़ें: PCS KA FULL FORM IN HINDI