गारंटी और वारंटी में क्या अंतर होता है? | Guarantee & Warranty Meaning In Hindi

Guarantee Aur Warranty Me Antar :- आप जब किसी शोरूम या दुकान से कोई इलेक्ट्रॉनिक सामान (Product) खरीदते हैं। तो दुकानदार आपको उस सामान के साथ एक गारंटी और वारंटी कार्ड भी देता है। लेकिन बहुत से ऐसे लोग होते हैं जिन्हें गारंटी और वारंटी का सही मतलब मालूम नहीं होता है और ना ही उन्हें गारंटी और वारंटी में अंतर पता होता है। जिसकी वजह से वह गारंटी और वारंटी कार्ड का फायदा नहीं उठा पाते हैं। इसलिए आज हम आपको इस आर्टिकल Guarantee Meaning In Hindi और Warranty Meaning In Hindi के बारे में बताएंगे। साथ ही गारंटी और वारंटी में क्या अंतर है यह भी बताएंगे। ताकि आप गारंटी और वारंटी शब्द को अच्छे से समझ सके।

GATE EXAM{गेट एग्जाम} KYA HAI

Guarantee Aur Warranty Me Antar Hota Hai

जब आप कोई Product खरीदते हैं और उस प्रोडक्ट के कार्ड पर 5 साल की गारंटी लिखी होती है। तो इसका यह मतलब होता है कि अगर आपका सामान 5 साल से पहले खराब हो जाता है तो दुकानदार उसे बदल कर फ्री में नया सामान देगा।

Warranty का मतलब क्या होता है?

आपके प्रोडक्ट की वारंटी 5 साल की है। तो इसका यह मतलब होता है कि 5 साल के अंदर आपका प्रोडक्ट जितनी बार खराब होगा तो दुकानदार प्रोडक्ट को बिल्कुल फ्री में ठीक करके देगा।

गारंटी और वारंटी में क्या अंतर है

दोस्तों अधिकतर लोग गारंटी और वारंटी को एक ही जैसा मानते हैं। क्योंकि यह सुनने में एक जैसे ही लगते हैं। लेकिन हम आपको बता दें कि गारंटी और वारंटी अलग-अलग है। किसी प्रोडक्ट पर गारंटी और वारंटी दोनों दिए जाते हैं। लेकिन कभी-कभी किसी प्रोडक्ट पर गारंटी और वारंटी में से एक ही दिया जाता है। लेकिन अधिकतर इलेक्ट्रॉनिक चीजों पर guarantee and warranty दोनों ही दिए जाते हैं। जैसे कि हमने ऊपर बताया गारंटी-वारंटी दोनों अलग-अलग होते हैं। अब हम आपको बताएंगे कि गारंटी और वारंटी में क्या अंतर है। जिससे आप इन दोनों के अंतर को अच्छे से समझ सके और आप भी अपने प्रोडक्ट पर इन दोनों का अच्छे से फायदा उठा सके। क्योंकि अधिकतर लोग गारंटी और वारंटी के बारे में अच्छे से नहीं जानते हैं| इसी कारण अपने प्रोडक्ट पर मिलने वाली Guarantee और Warranty का फायदा नहीं उठा पाते हैं।

किसी Product पर 5 साल की गारंटी होती है और वह 5 साल से पहले खराब हो जाता है, तो दुकानदार गारंटी के आधार पर उस खराब प्रोडक्ट को बदलकर नया प्रोडक्ट देता है। ऐसे ही किसी प्रोडक्ट की वारंटी 5 साल है और वह 5 साल से पहले खराब हो जाता है तो इसमें नए समान नहीं दिया जाता है बल्कि दुकानदार आपके खराब प्रोडक्ट को ही ठीक करके देता है। वारंटी की खास बात यह है कि जब तक प्रोडक्ट वारंटी में रहता है वह कितनी भी बार खराब हो दुकानदार उतनी ही बार ठीक करके देगा।

  • अधिकतर वारंटी सभी सामानों पर दी जाती है। लेकिन गारंटी कुछ गिने-चुने सामानों पर ही दी जाती हैं।
  • ग्राहकों के लिए Guarantee ज्यादा फायदेमंद होता है क्योंकि इसमें खराब समान को बदलकर नया सामान दिया जाता है। जबकि Warranty में खराब सामान को केवल ठीक करके ही दिया जाता है
  • कुछ प्रोडक्ट पर पैसे देकर वारंटी पीरियड को बढ़ा सकते हैं। लेकिन गारंटी में पैसे देकर प्रोडक्ट के गारंटी पीरियड को नहीं बढ़ाया जा सकता है।

Guarantee और Warranty प्राप्त करने की शर्त

  • यदि आप किसी गारंटी वाले प्रोडक्ट पर गारंटी प्राप्त करना चाहते हैं, तो सबसे पहले आपके पास उस प्रोडक्ट को खरीदने का बिल होना चाहिए और उसका गारंटी कार्ड होना चाहिए।
  • अगर आप किसी गारंटी/वारंटी वाले सामान पर गारंटी/वारंटी का फायदा लेना चाहते हैं और उस सामान का गारंटी कार्ड/वारंटी कार्ड आपके पास नहीं है। तो आप गारंटी/वारंटी का फायदा नहीं उठा पाएंगे।
  • सामान को खरीदते समय एक गारंटी और वारंटी कार्ड दिया जाता है, इस गारंटी और वारंटी कार्ड की समय सीमा तय होती हैं। अगर आप उस समय सीमा के अंदर अपने सामान को दुकानदार के पास बदलने या ठीक करने के लिए लेकर जाते हैं तो दुकानदार सामान को बदलकर या ठीक कर कर देगा।

आपने क्या सीखा?

दोस्तों आज आपने इस आर्टिकल से Guarantee Aur Warranty Me Antar होता है? यह जाना है। इसके अलावा आपने Guarantee or Warranty Meaning In Hindi और गारंटी और वारंटी प्राप्त करने की शर्तों को अच्छे से समझा है। हम आशा करते है हमारा यह आर्टिकल आपको बहुत पसंद आया होगा। हम आपको बता दें कि हमारा  आर्टिकल भविष्य में आपके लिए उपयोगी साबित होगा। यदि आप इसी तरह की ओर महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारी वेबसाइट के साथ जुड़े रहे।