OPD Ka Full Form in Hindi

चिकित्सा के क्षेत्र में OPD बहुत प्रचलित शब्द है | हॉस्पिटल में यह एक विभाग होता है | जब आप किसी हॉस्पिटल में पहली बार प्रवेश करते है, उस समय आप अपने मरीज को सबसे पहले ओपीडी विभाग में ही ले जाते है | इस विभाग को सामन्यतः हॉस्पिटल के ग्राउंड फ्लोर पर ही बनाया जाता है | इस विभाग को कई विभाग में विभाजित किया जाता है | जिससे रोगियों को अधिक परेशानी का सामना न करना पड़े | इस पेज पर OPD Ka Full Form in Hindi , ओपीडी (OPD) का क्या मतलब होता है, के विषय में बताया जा रहा है |

ये भी पढ़ें: SSLC KA FULL FORM IN HINDI

ओपीडी (OPD) का फुल फॉर्म (Full Form )

ओपीडी (OPD) का फुल फॉर्म Outpatient Department होता है | हिंदी में इसे बाह्य रोगी विभाग के नाम से जाना जाता है | बाह्य रोगी विभाग का कार्य रोगी और अस्पताल के कर्मचारियों के बीच सम्पर्क कराना होता है | इस विभाग को रोगों के अनुसार कई उपविभागों में विभाजित किया जाता है, जिससे अस्पताल में रोगी आने पर उसको तुरंत ही उपचार प्रदान किया जा सके | चिकित्सा विभाग के निर्देशानुसार इसे अस्पताल के ग्राउंड फ्लोर पर ही बनाना चाहिए | इससे रोगियों को समय से उपचार प्रदान किया जा सकता है |

ये भी पढ़ें: NRI (एनआरआई) FULL FORM IN HINDI

ओपीडी (OPD) की सेवायें

ओपीडी (OPD) की सेवायें इस प्रकार है-

Consultation Chambers

यह ओपीडी का वह आंतरिक भाग है जिसमें रोगियों को चिकित्सा, सर्जिकल, आहार से सम्बंधित सलाह विशेषज्ञों के द्वारा प्रदान की जाती है |

Examination Rooms

यह ओपीडी का वह आंतरिक भाग है, जिसमें मरीजों की जाँच की जाती है, जाँच के उपरांत रोग का पता लगाया जाता है |

Diagnostics

इस भाग को कलेक्शन पॉइंट के नाम से जाना जाता है | यहाँ पर रेडियोलोजी, विकृति विज्ञान, सूक्ष्म जीव विज्ञान और अन्य क्लीनिकल सर्विसेज के नमूनों को संग्रहित किया जाता है |

अन्य भाग

अस्पताल में प्रदान की जाने वाली सेवाओं के अनुसार ओपीडी के अन्य भाग भी हो सकते है, यह इस प्रकार है-

  • Cardio Thoracic Surgery
  • Nephrology & Renal Transplant Surgery
  • Orthopaedics & Joint Replacement Surgery
  • General & Laparoscopy Surgery
  • Gastroenterology & HepatologyInternal Medicine
  • Neurosurgery

ओपीडी (OPD) में रोगियों के प्रकार

सामान्यतः ओपीडी में दो प्रकार के रोगी आते है | प्रथम प्रकार में वह रोगी होते है जिन्हें हॉस्पिटल में भर्ती नहीं किया जाता लेकिन उपचार कराने के लिए उनको हास्पिटल में लाया जाता है | द्वितीय प्रकार में वह रोगी होते है, जिन्हें एक दिन या एक सप्ताह अथवा इससे अधिक समय के लिए हास्पिटल में भर्ती किया जाता है |

ये भी पढ़ें: CRPF FULL FORM IN HINDI

Leave a Comment