HIV Full Form in Hindi

HIV एक बहुत ही खतरनाक बीमारी होती है इसका कोई इलाज नहीं होता है | यह एक तरह का वायरस (Virus) मानव प्रतिरक्षा प्रणाली पर प्रभाव डालता है और इससे इन्फ्लूएंजा, खांसी, tuberculosis जैसी बीमारियों के संपर्क में आ जाने पर उसे और भी ज्यादा संवेदनशील बना देता है | एचआईवी (HIV) सफेद रक्त कोशिकाएं (white blood cells) को नष्ट करने लगता है | यदि इन श्वेत कोशिकाओं की बड़ी संख्या नष्ट कर देता है, तो शरीर संक्रमण से लड़ने में निष्क्रिय हो जाता है | संक्रमण की प्रगति तेजी से होने से, यह AIDS का रूप ले लेता है | यहाँ पर का HIV फुल फॉर्म, HIV कैसे होता है इससे कैसे बचाव करे, इसकी जानकारी बताई जा रही है |

ये भी पढ़ें: DNA KA FULL FORM IN HINDI

ये भी पढ़ें: ATM KA FULL FORM IN HINDI

HIV का फुल फॉर्म

HIV का फुल फॉर्म Human Immunodeficiency Virus होता है और इसे हिंदी में ‘मानवीय प्रतिरक्षी अपूर्णता विषाणु’ के नाम से और अंग्रेजी में Human Immunodeficiency Virus नाम से जाना जाता है | यह सबसे खतरनाक वायरस में से एक है जो Acquired Immunodeficiency syndrome (AIDS) होने का मुख्य कारण होता है जिसे HIV संक्रमण का प्राथमिक चरण माना जाता है | एड्स (AIDS) सर्वप्रथम संयुक्त राज्य अमेरिका में 1981 में observed किया गया था |

ये भी पढ़ें: BSC FULL FORM IN HINDI

HIV कैसे होता है

HIV होने के कई कारण हो सकते है जिनमे से मुख्य कारण असुरक्षित यौन संबंध से, दूषित रक्त संक्रमण से, हाइपोडर्मिक नीडल्स के प्रयोग से, गर्भावस्था प्रसव या स्तनपान के दौरान मां से बच्चे तक भी फ़ैल जाता है | इसके अलावा कुछ शारीरिक तरल पदार्थ होते है जैसे लार और आँसू ये एचआईवी प्रसारित नहीं करते हैं |

ये भी पढ़ें: PHD FULL FORM IN HINDI

ऐसे करे बचाव

HIV रोकथाम के लिए कुछ स्टेज में संक्रमित लोगों का इलाज किया जा सकता हैं | परन्तु मनुष्य के शरीर में इस बीमारी की उपस्थिति के परीक्षण का कोई समुचित उपाय नहीं है क्योंकि एचआईवी (HIV) वायरस बहुत छोटा होता है और जिसे रक्त से अलग नहीं किया जा सकता है | इस बीमारी से बचाव के लिए दुनिया के विभिन्न हिस्सों में प्रयोग की जाने वाली अलग – अलग प्रक्रियाएं होती हैं | इस बीमारी से निवारण हेतु सबसे ज्यादा प्रयोग किया जाने वाला परीक्षण ELISA (Enzyme-linked Immunosorbent Assay) परीक्षण होता है ।

ये भी पढ़ें: MBBS FULL FORM IN HINDI

इसके संक्रमण से बचने के लिए कुछ सावधानिया इस प्रकार है-

  • संक्रमित व्यक्ति के साथ असुरक्षित यौन संबंध कभी न बनाये |
  • संक्रमित Blood transfusion के पहले पूरी तरह से जांच करवाए |
  • Hypodermic needles का उपयोग बिल्कुल न करे |
  • थोड़ा भी महसूस या लक्षण लगने पर तुरंत जांच करवाए |

ये भी पढ़ें: SSC KA FULL FORM IN HINDI

HIV के स्टेज (Stag Of HIV)

HIV इन्फेक्शन मुख्यतः तीन चरणों में होता है, जो इस प्रकार है-

  1. तीव्र एचआईवी संक्रमण (Acute HIV Infection)
  2. क्रोनिक एचआईवी संक्रमण (Chronic HIV Infection)
  3. एड्स / उन्नत संक्रमण (AIDS/Advanced Infection)

1.तीव्र एचआईवी संक्रमण (Acute HIV Infection)

यह एचआईवी इन्फेक्शन की प्रथम स्टेज होती है। अधिकतर, इस चरण में संक्रमण के लक्षण तुरंत समझ में नहीं आते हैं | यहीं कारण होता है, लोग HIV से संक्रमित होने पर भी उन्हें तुरंत पता नहीं लगता है | इसके प्राथमिक लक्षणों के लिए लगभग दो से चार सप्ताह तक का समय लग जाता है |

ये भी पढ़ें: MLA KA FULL FORM IN HINDI

2.क्रोनिक एचआईवी संक्रमण (Chronic HIV Infection)

यह इन्फेक्शन का दूसरा स्टेज होता है | इस स्टेज में, Virus बॉडी में replicating  करना शुरू हो जाता है जो धीरे-धीरे प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर करता जाता है | इसमें आप बीमार नहीं लगते है और न ही महसूस कर पाते हैं, इसलिए संभावना यह भी पायी जाती है कि इस बीमारी को दूसरों में भी संकर्मित हो सकती हैं | इसलिए, HIV का परीक्षण जल्द से जल्द करवाना बहुत महत्वपूर्ण होता है, भले ही आप अपने आपको बिल्कुल ठीक महसूस कर रहे हों |

3.एड्स / उन्नत संक्रमण (AIDS/Advanced Infection)

यह HIV संक्रमण का तीसरा और उन्नत स्टेज होता है | इस स्टेज में, रोगी की CD4 T-cell की संख्या 200 से भी नीचे चली जाती है और रोगी की प्रतिरक्षा बहुत कम हो जाती है जिससे रोगी अवसरवादी संक्रमणों के लिए अधिक संक्रमित हो जाता है |

ये भी पढ़ें: आरएसएस (RSS) का फुल फॉर्म क्या है

ये भी पढ़ें: IAS KA FULL FORM IN HINDI