डिलेड (d.el.ed) का फुल फॉर्म क्या होता है

देश भर में बहुत से ऐसे लोग हैं जो टीचर बनने के लिए कई तरह के कोर्स करते हैं जिनमे सफल होने के बाद वो एक शिक्षक की नौकरी पा जाते हैं | वहीं जानकारी देते हुए बता दें कि, शिक्षक बनने के लिए कई तरह के कोर्स करने पड़ते हैं जिसके लिए हमे बहुत अधिक मेहनत करनी पड़ जाती है | जिसके बाद ही   हम अपने इस मुकाम तक पहुंचने में कामयाब हो पाते हैं | इन्हीं कोर्सों में शिक्षक बनने के लिए डिलेड (d.el.ed) का भी एक कोर्स होता है जिसे करने के बाद हम शिक्षक की नौकरी पाने में कामयाब हो सकते है, इसे बीटीसी (BTC) के नाम से भी जाना जाता था| तो इसलिए जानिये कि, डिलेड (d.el.ed) क्या होता है | इसका फुल फॉर्म  क्या होती है ? इसकी योग्यता और  d.el.ed कोर्स फ़ीस की जानकारी के बारे में |

btc or deled full form

डिलेड (d.el.ed) OR BTC क्या होता है?

वर्तमान समय में शिक्षक बनने के लिए जो लोग डी एल एड का कोर्स करते हैं उन्हें  इस कोर्स को करने के बाद शिक्षक बनने की प्रक्रिया में शामिल कर लिया जाता है क्योंकि, प्राथमिक विद्यालय में अध्यापक बनने के लिए डी एल एड (D.EL.ED) का कोर्स करना अनिवार्य रहता है |

जाने डी एल एड फुल फॉर्म क्या होता है? 

डी एल एड का फुल फॉर्म ‘डिप्लोमा इन एलीमेंटरी एजुकेशन (DIPLOMA IN ELEMENTARY EDUCATION) होता है |

डी एल एड कोर्स की अवधि (DURATION )

डी एल एड (D.EL.ED) कोर्स की अवधि केवल दो वर्ष है,  दो वर्ष का पूरा कोर्स करने के बाद  आप टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट में हिस्सा लेने में  कामयाब हो सकते है |

इसकी योग्यता (QUALIFICATION)

डी एल एड (D.EL.ED) में प्रवेश  लेने वाले अभ्यर्थी को स्नातक की परीक्षा में 50 प्रतिशत अंक हासिल करने  अनिवार्य है |

आयु सीमा (AGE LIMIT)

डी एल एड (D.EL.ED) में प्रवेश  लेने वाले अभ्यर्थी की आयु 18 वर्ष से 35 वर्ष के बीच में होनी  चाहिए |

डी एल एड (D.EL.ED) की फीस 

  • सरकारी कॉलेज  के अभ्यर्थी को – 10200 रूपये प्रतिवर्ष जमा करनी रहेगी |
  • प्राइवेट कॉलेज के अभ्यर्थी को प्रतिवर्ष – 41000 रूपये फेस भरनी पड़ेगी |

चयन प्रक्रिया (SELECTION PROCESS)

डी एल एड (D.EL.ED) में अभ्यर्थियों को प्रवेश हाईस्कूल, इण्टरमीडियट, स्नातक में प्राप्त अंकों के प्रतिशत के योग के आधार पर दिया जाता है |

अभ्यर्थी ऐसे करा सकते हैं एडमिशन  (Admission in D.EL.ED Course)

  • शिक्षक पदों पर राज्य सरकार के द्वारा प्रति वर्ष आवेदन जारी किये जाते है | आप आवेदन प्रक्रिया शुरू होने के बाद  निर्धारित तिथि के अंदर आवेदन करे |
  • आवेदन प्रक्रिया सम्पन्न होने के बाद आप उसका प्रिंट आउट भी निकाल सकते है |
  • बोर्ड द्वारा आवेदन के कुछ समय बाद मेरिट  जारी कर दी जाती है |
  • इसके बाद  आप अपनी  मेरिट के मुताबिक, काउंसलिंग में हिस्सा लें |
  • काउंसलिंग प्रक्रिया संपन्न होने के एक-दो दिन के बाद कॉलेज का एलॉटमेंट होता  है | आप एलॉटमेंट लेटर का प्रिंट आउट निकालकर और आवश्यक डॉक्यूमेंट के साथ एलॉट किये गए कॉलेज में फ़ीस जमा कर  दें और फिर एडमिशन करा लें |

डी एल एड (D.EL.ED) के बाद क्या करे ?

यह कोर्स पूरा करने के बाद आप टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट में  शामिल हो सकते है | राज्य सरकार और केंद्र सरकार इस टेस्ट को अलग-अलग आयोजित करती है | राज्य सरकार द्वारा आयोजित किये जाने  वाले टेस्ट को स्टेट टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट कहते है और केंद्र सरकार द्वारा आयोजित किये जाने वाले टेस्ट को सेंटर टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट कहा जाता है |

Leave a Comment