DTO का फुल फॉर्म क्या है

वर्तमान समय में अधिकतर लोगों के पास दो पहिया या चार पहिया वाहन होते है | वहीं इन वाहनों को चलाने के लिए लोगों के पास ड्राइविंग लाइसेंस होना बहुत ही आवश्यक कर दिया गया है, क्योंकि जब तक लोगों के पास ड्राइविंग लाइसेंस नहीं होगा, तब तक वो कहीं दूर जाने के लिए गाड़ी के ड्राइवर नहीं बन सकते है | इसलिए सरकार द्वारा लोगों के पास गाड़ी चलाने के लिए ड्राइविंग लाइसेंस होना बहुत ही जरूरी है | ड्राइविंग लाइसेंस एक डीटीओ द्वारा ही जारी किये जाते है | इसलिए यदि आपको डीटीओ के विषय में अधिक जानकारी नहीं प्राप्त है और आप इसके विषय में जानना चाहते है, तो यहाँ पर आपको DTO का फुल फॉर्म क्या है?, डीटीओ का मतलब, Full Form in Hindi | इसकी विस्तृत जानकारी प्रदान की जा रही है |

RTO KA FULL FORM KYA HOTA HAI  

डीटीओ (DTO) का फुल फॉर्म

DTO का फुल फॉर्म “District Transport Office” होता है | वहीं इसका हिंदी में उच्चारण “डिस्ट्रिक्ट  ट्रांसपोर्ट ऑफिस” होता है | 

डीटीओ का क्या मतलब है

डीटीओ भी आरटीओ की तरह एक भारत सरकार की आर्गेनाइजेशन कम्पनी है, जो प्रमुख रूप से भारत के सभी अलग अलग जिले के ड्राइवर और वाहन का डेटाबेस मेन्टेन करने की जिम्मेदारी बखूबी निभाता है | इसके साथ ही DTO किसी जिले के ड्राइविंग लाइसेंस भी जारी करता है | इसके अलावा वह डीटीओ ही होता है, जो  वाहन उत्पाद शुल्क (सड़क कर और सड़क निधि लाइसेंस के रूप में भी जाना जाता है) का संग्रह आयोजित करता है और व्यक्तिगत पंजीकरण बेचने का काम करता है। वहीं एक  डीटीओ वाहन के बीमा का निरीक्षण करने और प्रदूषण परीक्षण को साफ करने में भी जिम्मेदारी निभाता है , लेकिन ये सभी कार्य करने के लिए डीटीओ का काम अपने जिले तक सीमित होता है | 

एसडीएम (SDM) का फुल फॉर्म क्या होता है 

जानिये RTO किसे कहते हैं

RTO का फुल फॉर्म “Regional Transport Office” होता है, जिसे लोग RTA अर्थात “Regional Transport Authority” के नाम से भी जाना जाता हैं, यह भी भारत सरकार की आर्गेनाइजेशन कम्पनी होती है, जो भारत के सभी अलग अलग राज्यों के ड्राइवर और वाहन का डेटाबेस मेन्टेन करने का काम करती है | इसके अलावा इसका काम भी ड्राइविंग लाइसेंस जारी करने का होता है और साथ ही यह वाहन उत्पाद शुल्क (सड़क कर और सड़क निधि लाइसेंस के रूप में भी जाना जाता है) का संग्रह आयोजित करता है और व्यक्तिगत पंजीकरण बेचने का काम करता है। इसके अलावा यह वाहन के बीमा का निरीक्षण करने और प्रदूषण परीक्षण को साफ करने की भी पूरी जिम्मेदारी निभाता है |

RTO और DTO में क्या अंतर है ?     

  1. RTO का पूरा नाम “Regional Transport Office” होता है और वहीं, DTO का पूरा नाम “District Transport Office” होता है | 
  2. ये दोनों ही भारतीय सरकार की आर्गेनाइजेशन हैं, जिसमे राज्य स्तर की जिम्मेदारी RTO निभाता है और जिला स्तर की जिम्मेदारी DTO  को सौंपी जाती है | 
  3. RTO राज्य स्तर के ड्राइवर और वाहन का डेटाबेस की देखरेख करता है और DTO जिला स्तर के ड्राइवर और वाहन का डेटाबेस की जिम्मेदारी निभाता है | 

डीएम का फुल फॉर्म क्या होता है

 यहाँ पर हमने आपको डीटीओ के फुल फॉर्म के विषय में जानकारी उपलब्ध कराई है |  यदि इस जानकारी से रिलेटेड आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न या विचार आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है, हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ADM FULL FORM IN HINDI