NAAC Full Form in Hindi

वर्तमान समय में सभी उच्च शिक्षण संस्थानों के लिए NAAC की मान्यता प्राप्त करना आवश्यक है | यदि किसी संस्थान के द्वारा इसकी मान्यता नहीं ली जाती है, तो उस संस्थान को कई सरकारी योजनाओं से वंचित कर दिया जाता है | इससे यह तो स्पष्ट हो जाता है कि यह बहुत ही महत्वपूर्ण है | यदि आपको इसके विषय में जानकारी नहीं है तो इस पेज पर NAAC Full Form in Hindi , एनएएसी (NAAC) Rating का क्या मतलब होता है, के विषय में बताया जा रहा है |

ये भी पढ़ें: RCEP FULL FORM IN HINDI

एनएएसी (NAAC) का फुल फॉर्म (Full Form)

एनएएसी (NAAC) का फुल फॉर्म National Assessment and Accreditation Council है, हिंदी में इसे राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यापन परिषद के नाम से जाना जाता है | यह एक स्वायत्त संस्था है, इसके द्वारा भारत के उच्च शिक्षण संस्थाओं का आंकलन किया जाता है | आंकलन करने के बाद यह संस्थान उच्च शिक्षण संस्थाओं को मान्यता प्रदान करता है |

एनएएसी (NAAC) की स्थापना (Establishment)

वर्ष 1994 में नेशनल पॉलिसी इन एजुकेशन (1986) की सिफारिश के आधार पर एनएएसी (NAAC) की स्थापना की गयी थी | इस संस्था का मुख्यालय बैंगलोर में स्थित है | इसका प्रमुख कार्य शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार करना है |


ये भी पढ़ें: NBFC FULL FORM IN HINDI

एनएएसी (NAAC) Rating का क्या मतलब होता है?

भारत में उच्च शिक्षण संस्थानों को चार अलग-अलग श्रेणियों में रखा गया है यह इस प्रकार है-

’A’

‘B’

’C’

’D’

यह श्रेणी बहुत अच्छे, अच्छे, संतोषजनक और असंतोषजनक जैसे संस्थानों को प्रदर्शित करती है | इसमें निर्धारित विशिष्ट मानदंड के अनुसार सभी पहलुओं को देखतें हुए स्कोर की गणना की जाती है, इसमें निर्धारित वेटेज का उपयोग किया जाता है | इसमें मानदंड के लिए GPA पर कार्य किया जाता है और CGPA के द्वारा मूल्यांकन का अंतिम परिणाम जारी किया जाता है |

एनएएसी (NAAC) की रेटिंग (Rating)

CGPA Grade Status Performance
3.51 – 4.00 A++ Accredited Very Good
2.26 – 3.50 A+ Accredited Very Good
3.01 – 3.25 A Accredited Very Good
2.76 – 3.00 B++ Accredited Good
2.51 – 2.75 B+ Accredited Good
2.01 – 2.50 B Accredited Good
1.51 – 2.00 C Accredited Satisfactory
Less than 1.50 D Not Accredited Unsatisfactory

मूल्यांकन मानदंड (Assessment Criteria)

मूल्यांकन मानदंड इस प्रकार है-

  • Curricular Aspects
  • Research, Innovations and Extension
  • Infrastructure and Learning Resources
  • Governance, Leadership and Management
  • Institutional Values and Best Practices
  • Teaching-Learning and Evaluation
  • Student Support and Progression

ये भी पढ़ें: आरएससीआईटी (RSCIT) की फुल फॉर्म क्या है

Leave a Comment