आईएमएफ का पूरा नाम क्या है

 आईएमएफ एक अंतर्राष्ट्रीय संस्था है | यह एक ऐसी महत्वपूर्ण संस्था है, जो अपने सदस्य देशों की वैश्विक आर्थिक स्थिति पर अपनी नजर बनाये रखती है और इसके साथ ही यह अपने सदस्य देशों को आर्थिक और तकनीकी सहायता  भी प्रदान करने का अपना काम पूरा करती है । इसके अलावा यह संगठन अंतर्राष्ट्रीय विनिमय दरों को स्थिर बनाने का काम करता है और साथ ही में विकास को सुगम करने में सहायता प्रदान करता है।  इससे लोगों को कई परेशानियों का समाधान भी किया जाता है | इसलिए यदि आप भी आईएमएफ के विषय में जानना चाहते है, तो यहाँ पर आपको आईएमएफ का पूरा नाम क्या है , फुल फॉर्म |, IMF का क्या मतलब है , इसके कार्य की पूरी जानकारी प्रदान की जा रही है |

IIM FULL FORM IN HINDI

आईएमएफ की स्थापना कब हुई 

आईएमएफ की स्थापना जुलाई 1944 में सम्पन्न हुए संयुक्त राष्ट्र मौद्रिक एवं वित्तीय सम्मेलन में हस्ताक्षरित समझौते के अंतर्गत हुई थी | इसके बाद यह  27 दिसंबर, 1948 से प्रभावी होना शुरू हो गया था |

आईएमएफ का पूरा नाम

आईएमएफ का पूरा नाम अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष है ,जो मुख्य रूप से विश्‍व में मौद्रिक सहयोग बढ़ाने, वित्‍तीय स्थिरता लाने, अंतर्राष्‍ट्रीय व्‍यापार में मदद करने, अधिक रोजगार तथा सतत् आर्थिक वृद्धि को प्रोत्‍साहन देने और विश्‍व भर में गरीबी कम करने के लिए अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है |

माउस का फुल फॉर्म क्या होता है

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष का उद्देश्य  

  1. का प्रमुख रूप से उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय वित्तीय एवं मौद्रिक स्थिरता को बनाये रखने के उपाय  पर काम करना है | 
  2. अंतरराष्ट्रीय व्यापार के विस्तार एवं पुनरुत्थान करने के लिए वित्तीय आधार उपलब्ध  कराने का काम करता है, आर्थिक प्रगति को बढ़ावा देता है, गरीबी कम करता है , रोजगार को बढ़ावा देना और अंतर्राष्ट्रीय व्यापार सुविधाजनक बनाना चाहता है | 
  3.   एक स्थायी संस्था (जो अंतरराष्ट्रीय मौद्रिक समस्याओं पर सहयोग व परामर्श हेतु एक तंत्र उपलब्ध कराती है) के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय मौद्रिक सहयोग को बढ़ावा देना लक्ष्य तय करता है | 
  4. व्यापार के विस्तार एवं संतुलित विकास को प्रोत्साहित करने का काम करता है  तथा इस प्रकार से सभी सदस्यों के उत्पादक संसाधनों के विकास और रोजगार व वास्तविक आय के उच्च स्तरों को कायम रखने महत्वपूर्ण योगदान देता है | 
  5. मुद्रा कोष विनिमय स्थिरता को प्रोत्साहित  करता है और सदस्यों के बीच व्यवस्थित विनिमय प्रबंधन को बनाये  रखता है तथा सदस्यों के मध्य चालू लेन-देन के संदर्भ में भुगतानों की एक बहुपक्षीय व्यवस्था की स्थापना में सहायता प्रदान करता है | 
  6. मुख्य रूप से सदस्यों को अस्थायी कोष उपलब्ध कराकर उन्हें अपने भुगतान संतुलनों के कुप्रबंधन से निपटने का अवसर एवं क्षमता प्रदान कराता है और सभी सदस्यों के अंतरराष्ट्रीय भुगतान संतुलनों में व्याप्त असंतुलन की मात्रा व अवधि को कम कराने के प्रयास में रहता है |

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के महत्वपूर्ण कार्य

आईएमएफ की स्थापना के समय, इसके तीन प्राथमिक कार्य होते थे |

  1. मुद्रा कोष देशों के बीच निश्चित विनिमय दर की व्यवस्था की निगरानी करता है और अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक संकटों को फैलाने से रोकने के लिए सहायता करने का काम करता था । 
  2. बाद यह महामंदी और द्वितीय विश्व युद्ध के बाद अंतर्राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था के टुकड़ों को सुधारने की कोशिश की थी  इसके  साथ ही, आर्थिक विकास और बुनियादी ढांचे जैसे परियोजनाओं के लिए पूंजी निवेश प्रदान करता था | 
  3. वैश्विक विकास और आर्थिक स्थिरता को बढ़ावा  देता है  क्योंकि, जिससे वे विकासशील देशों के साथ काम कर, नीतिगत, सलाह और सदस्यों को वित्तपोषण करके व्यापक आर्थिक स्थिरता हासिल करने और गरीबी को कम करने में मदद  करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सके| 

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष एवं भारत के बीच का संबंध

भारत एक ऐसा देश है, जो अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के संस्थापक सदस्यों में से एक कहा जाता है। भारत का वित्त मंत्री आईएमएफ में गवर्नर मण्डल का पदेन गवर्नर कहलाता है, वहीं भारतीय रिजर्व बैंक दूसरा गवर्नर के नाम से जाना जाता है। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष में भारत का कोष वर्तमान में 2.44 प्रतिशत है जिससे भारत आईएमएफ में आठवाँ सबसे बड़ा कोटा धारक का स्थान प्राप्त कर लिया है।  

भारत पहले से लेकर अब तक अंतराष्ट्रीय मुद्रा कोष के नीति-निर्माण एवं कार्य संचालन में भारत निरंतर योगदान  प्रदान करता आ रहा है। जहाँ भारत, अभी तक अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष से समय-समय पर अपनी आवश्यकतानुसार ऋण लेता रहा है, वहीं अब इस बहुपक्षीय संस्था को ऋण  प्रदान करने का काम करने लगा है |  

आईएफएससी का फुल फॉर्म क्या है

यहाँ पर हमने आपको आईएमएफ के विषय में जानकारी उपलब्ध कराई है | यदि इस जानकारी से रिलेटेड आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न या विचार आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है, हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

RIP KA FULL FORM IN HINDI